SJ Financial II - шаблон joomla Форекс

wrapper

Breaking News

WannaCry से भी खतरनाक है ये EternalRocks रैन्समवेयर, रिसर्चर्स ने किया है खुलासा

चर्चित WannaCry रैन्समवेयर का नाम तो आपने सुना ही होगा. हाल ही में इस रैंसमवेयर की चपेट में सैकड़ों देशों के लाखों कंप्यूटर्स आए. इनमें सबसे ज्यादा विंडोज कंप्यूटर्स थे. यह कथित तौर पर एनएसए द्वारा डेवेलप किया गया टूल था जिसे हैकर्स चुरा कर इसे पैसे कमाने के लिए यूज कर रहे हैं.

WannaCry रैन्समवेयर का खतरा अभी तक टला नहीं है कि अब एक ऐसा ही नया मैलवेयर आ चुका है. इसका नाम EternalRocks बताया जा रहा है. खास बात यह है कि यह रैन्समवेयर भी कथित तौर पर अमेरिकी नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी द्वारा ही डेवलप किया गया है.

EternalRocks इसलिए भी खतरनाक है, क्योंकि रिसरचर्स का मानना है कि यह एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में फैलने के लिए एनएसए के सात हैकिंग टूल को यूज करता है. इनमें EternalBlue, EternalChampion, Eternalsynergy, Doublepulsar, Architouch और SMBTouch शामिल हैं.

गौरतलब है कि अप्रैल में एनएसए के हैकिंग टूल को कथित तौर पर शैडो ब्रेकर नाम के हैकर ग्रुप ने लीक कर दिया था. इसके बाद ग्रुप ने यह धमकी भी दी कि अगले कुछ महीने में डेटा डंप कर दिया जाएगा.

कैसे काम करता है यह मैलवेयर
इस रैन्समवेयर के काम करने का तरीका थोड़ा अलग है. क्योंकि यह पहले स्टेज में यह सिस्टम को इन्फेक्ट करता है और टोर नेटवर्क डाउनलोड करता है. अटैक का दूसरा स्टेज 24 घंटे के बाद शुरू होता है जब कमांड और कंट्रोल सर्वर रिस्पॉन्ड करता है. देर से अटैक करना एक ट्रिक है, ताकि सिस्टम के लिए इसे डिटेक्ट कर पाना मुश्किल हो.

कुछ साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स का मानना है कि इटरनल रॉक्स नाम का यह मैलवेयर WannaCry से भी खतरनाक है , क्योंकि इसकी कोई कमजोरी नहीं है. सबसे भयावह यह है कि इसका कोई किल स्विच नहीं होता जिसके जरिए रिसरचर्स मैलवेयर पर लगाम लगाते हैं. इसकी वजह यही है कि यह कंप्यूटर में आने के 24 घंटे बाद काम करना शुरू करता है ताकि इसे रोका न जा सके.

Read more

Contact Us

For General Enquiry
  •  : info@a1tv.tv
  •  : 0141 - 4515121, 4515151
For Advertising
  • : advt@a1tv.tv,      a1tv.advt@gmail.com
  •  : +91- 98280-11251, 98280-10551
  •  : +91- 98280-10551