SJ Financial II - шаблон joomla Форекс

wrapper

Breaking News

सावधान! ये लिंक हैक कर सकता है आपका गूगल अकाउंट, ऐसे करें बचाव

एलफाबेट इंक (Alphabet Inc) ने यूजर्स से कहा है कि वे ईमेल में आए किसी भी गूगल डॉक्यूमेंट लिंक को न खोलें. हजारों यूजर्स के अकाउंट हैक होने के बाद गूगल ने यह एडवाइजरी जारी की है.

कैसे करता है ये काम?

यूजर्स को उनके कॉन्टेक्ट में मौजूद लोगों के नाम से गूगल डॉक्यूमेंट लिंक का ई-मेल आता है , जिसको ओपन करते ही एक गूगल का होस्टेड पेज खुल गया, जिस पर यूजर के गूगल अकाउंट की लिस्ट सामने आती है.

और जैसे ही यूजर इस अकाउंट पर क्लिक करते हैं, ये आपसे ‘गूगल डॉक्स’(Google Docs) ऐप को एक्सेस करने की परमीशन मांगता है. इसके बाद ‘अलॉउ (Allow)’ का पॉप अप सामने आता है जिस पर क्लिक करते ही ये आपके सारे इमेल को एक्सेस करके उन्हें पढ़ सकता है.


इतना ही नहीं ये आपके इमेल को पूरी तरह एक्सेस करने के बाद, फ्रॉड डॉक(Doc) लिंक आपके सारे कॉन्टेक्ट को भी भेजा जा सकता है.

कैसे पता करें की कहीं आपके साथ भी तो नहीं हुआ फ्रॉड?

ये पता करने के लिए आप गूगल अकाउंट में ‘ऐप परमीशंस(App Permissions)’ में जाएं. और फिर ‘गूगल डॉक(Google Doc)’ ऐप को ढूंढे और अगर आपको ये नहीं दिखाई देता है तो समझ लें कि आप सुरक्षित हैं.

कैसे बचें?

अगर आपको ऐप परमीशंस में ‘गूगल ऐप’ लिस्टेड नज़र आता है तो आप इस पर टैप करके रिमूव(Remove) आइकन पर क्लिक करके इससे बच सकते हैं.

गूगल डॉक(Google Doc) के ट्वीटर अकाउंट ने इस फ्रॉड को कंर्फम किया है और साथ ही यूजर्स को ऐसे लिंक्स को खोलने के लिए वॉर्न किया है. कंपनी यूजर्स को ऐसे फिशिंग(इमेल के जरिए किया गया फ्रॉड) से प्रोटेक्ट करने के प्रोसेस पर काम कर रही है.

Read more

एंड्रॉइड यूज़र्स के लिए गूगल ने पेश किया 'कॉपीलेस पेस्ट' फीचर


सर्च इंजन गूगल ने एक नया फीचर पेश किया है जिसे 'कॉपीलेस पेस्ट' नाम दिया गया है। ऐंड्रॉयड यूजर्स के लिए पेश किए गए इस फीचर के तहत क्रोम पर आप जो भी सर्च करेंगे, बाद में इस्तेमाल होने वाले संबंधित ऐप्स में उसे पेस्ट करने का ऑप्शन अपने आप आ जाएगा।

'Copyless Paste' फीचर को यूज करने के लिए क्रोम का एक्सपेरिमेंटल वर्जन Chrome Canary इंस्टॉल करना होगा। इसमें क्रोम के अंदर Flags में जाने पर यह फीचर दिखेगा। क्रोम फ्लैग्स दअसल क्रोम में के एक्सपेरिमेंटल वर्जन में उन फीचर्स को ऑन और ऑफ करने का तरीका है, जिनकी टेस्टिंग की जा रही होती है। इसलिए इस फीचर में अभी आपको कुछ कमियां मिल सकती हैं।

इस नए फ्लैग की डिस्क्रिप्शन में लिखा गया है, 'अगर आप ब्राउजर पर किसी रेस्तरां की वेबसाइट देखने के बाद मैप्स ऐप पर जाते हैं तो कीबोर्ड खुद ही आपको उस रेस्तरां का नाम सर्च बार में एंटर करने के लिए सजेस्ट करेगा।' इस डेटा को फोन पर ही स्टोर किया जाता है और गूगल को नहीं भेजा जाता।

Read more

Contact Us

For General Enquiry
  •  : info@a1tv.tv
  •  : 0141 - 4515121, 4515151
For Advertising
  • : advt@a1tv.tv,      a1tv.advt@gmail.com
  •  : +91- 98280-11251, 98280-10551
  •  : +91- 98280-10551