SJ Financial II - шаблон joomla Форекс

wrapper

Breaking News

देश-विदेश

देश-विदेश (125)

नई दिल्लीः केंद्र सरकार ने बुधवार को नेशनल हेल्थ पॉलिसी को मंजूरी दे दी. इस नीति के जरिए देश में ‘सभी को निश्चित स्वास्थ्य सेवाएं’ मुहैया कराने का प्रस्ताव है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली केंद्रीय कैबिनेट ने पिछले दो साल से लंबित स्वास्थ्य नीति को मंजूरी मिल गई है ।

केंद्रीय मंत्री जे पी नड्डा आज संसद में इस नीति के अहम पहलुओं की जानकारी देंगे. जानिए, नेशनल हेल्थ पॉलिसी में क्या है खास.

क्या है नेशनल हेल्थ पॉलिसी-
नेशनल हेल्थ पॉलिसी के अंतर्गत कोई भी हॉस्पिटल किसी भी तरह के इलाज के लिए मरीजों को मना नहीं करेगा. इसमें गवर्नमेंट हॉस्पिटल के साथ साथ प्राइवेट सेक्टर के हॉस्पिटल भी मौजूद हैं. नेशनल हेल्थ पॉलिसी में लोगों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस और उस पर हेल्थ टैक्स लगाने का भी प्रावधान है. वहीं गरीबी रेखा से नीचे आने वाले लोगों का इलाज भी पहले से बेहतर ढंग और मुफ्त में किए जाने का प्रावधान है. पॉलिसी के तहत टेस्ट, मेडिसिन और ट्रीटमेंट तीनों चीजें शामिल हैं. दरअसल, नए हॉस्पिटल्स को बनाने में आने वाले खर्च को लोगों के इलाज में इस्तेमाल करने का प्लान इस पॉलिसी में है. देशभर में 80% डॉक्टर्स और 60% हॉस्पिटल्स प्राइवेट सेक्टर के हैं जो लोगों का इलाज कर रहे हैं. अभी तक प्राइवेट हॉस्पिटल या डॉक्टर्स को मरीज अपनी जेब से ही भुगतान करता था लेकिन अब ये भार उसकी जेब से कम होगा.

नेशनल हेल्थ पॉलिसी की अहम बातें-

1) इस पॉलिसी के जरिए सरकार हर किसी का फ्री में इलाज करवाने की तैयारी में है. गवर्मन्ट का टारगेट है कि देश के 80% लोगों का इलाज गवर्मन्ट अस्पातल में पूरी तरह से फ्री हो.

2) सरकारी योजनाओं के तहत एक्सपर्ट और टॉप लेवल ट्रीटमेंट में प्राइवेट सेक्टर की भागीदारी को बढ़ाया जाएगा. यानि सरकार बेसिक ट्रीटमेंट को स्ट्रांग बनाएगी वहीं एक्सपर्ट ट्रीटमेंट के लिए लोग प्राइवेट या गवर्मन्ट हॉस्पिटल जा सकेंगे.

3) हेल्थ इंश्यारेंस प्लान के तहत सरकार प्राइवेट हॉस्पिटल्स को ऐसे इलाज के लिए निश्चित पेमेंट करेगी.नेशनल हेल्थ पॉलिसी के तहत देशभर में लोगों को सस्ता इलाज मुहैया करवाया जाएगा. प्रीपेड हेल्थकेयर सर्विस की सुविधा भी इस पॉलिसी में मौजूद है.

4) अब तक पीएचसी टीकाकरण, गर्भवती महिलाओं और बच्चे की जांच जैसी सुविधाओं को उपलब्ध करवाता था लेकिन अब इसमें गैर-संक्रामक रोगों की जांच और कई अन्य पहलू भी शामिल होंगे.

5 ) डिस्ट्रिक हॉस्पिटल्स और अन्य हॉस्पिटल्स से गवर्मन्ट कंट्रोल हटाया जाएगा. साथ ही इन हॉस्पिटल्स को आधुनिक बनाएं जाने की बात भी कहीं जा रही है.हेल्थ पॉलिसी में हेल्थ सेक्टर में 100% एफडीआई और डायरेक्ट टैक्स को कम करने की बात भी है.

6 ) हेल्थ सेक्टर में डिजिटलाइजेशन पर भी फोकस किया जाएगा. गंभीर और प्रमुख बीमारियों को जड़ से खत्‍म करने के लिए समय सीमा होगी तय.इस पॉलिसी में प्रस्ताव दिया गया है कि मरीजों को व्यापक स्वास्थ्य सुविधाएं दी जाएं. इसमें मां और शिशु मृत्युदर घटाने से लेकर गवर्मन्ट हॉस्पिटल्स में मेडिसिन, टेस्ट सभी के लिए साधन मौजूद होंगे.

7 ) राज्यों के लिए इस नीति को मानना अनिवार्य नहीं होगा. इस पॉलिसी को एक मॉडल के रूप में राज्यों को दे दिया जाएगा. राज्य सरकार इसे लागू करती है या नहीं, ये पूरी तरह उस पर निर्भर करेगा.

नई दिल्ली: अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह में मंगलवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए. अच्छी खबर यह है कि इसमें जानमाल के किसी भी नुकसान की खबर फिलहाल नहीं है. भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 5.9 मापी गई।

आईएमडी के अनुसार, भूकंप मध्यम तीव्रता का था. यह निकोबार द्वीप समूह में 6.4 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 92.2 डिग्री पूर्वी देशांतर में महसूस किया गया.

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की इकाई ‘नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी’ के अनुसार, सुबह आठ बज कर करीब 21 मिनट पर निकोबार द्वीपसमूह क्षेत्र में आए भूकंप का केंद्र 10 किमी की गहराई पर था. बहरहाल, यह भूकंप इतना तेज नहीं था कि सुनामी की चेतावनी जारी की जाए. भारत के पास एक समर्पित सुनामी चेतावनी केंद्र है जो भूकंप आने पर राज्यों और समीपवर्ती देशों को सुनामी के संबंध में अलर्ट जारी करता है.

भूकंप से जानमाल के नुकसान की तत्काल सूचना नहीं है. सुबह पांच बज कर करीब 50 मिनट पर जम्मू कश्मीर के कठुआ में भूकंप आया था जिसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.6 आंकी गई थी.

नई दिल्ली। विमान सेवा कंपनी विस्तारा ने शुक्रवार को 'होली सेल' की घोषणा की जिसके चुनिंदा मार्गों पर सस्ते टिकट उपलब्ध कराए जाएंगे। 
एयरलाइंस ने बताया कि ऑफर के तहत सभी करों एवं शुल्कों समेत टिकटों की कीमत 999 रुपए से शुरू है। इसके लिए 30 मार्च से 01 अक्टूबर के दौरान यात्रा के लिए बुकिंग 10 मार्च से 15 मार्च के बीच कराई जा सकती है। 'पहले आओ, पहले पाओ' के आधार पर सीमित सीटें ऑफर के तहत रखी गई हैं जो विभिन्न उड़ानों में उपलब्ध होंगी। 
 कंपनी ने बताया 999 रुपये में एक तरफ का टिकट गुवाहाटी-भुवनेश्वर मार्ग पर उपलब्ध होगा। जम्मू-श्रीनगर मार्ग पर किराया 1199 रुपए तथा दिल्ली-लखनऊ मार्ग पर 1549 रुपए होगा।  ऑफर के तहत सर्वाधिक 6,499 रुपए का किराया दिल्ली-पोर्ट ब्लेयर मार्ग पर रखा गया है।  'होली सेल' में रकघी डेस्टिनेशन में गोवा, लेह, कोच्चि, अमृतसर, कोलकाता, मुंबई और बेंगलुरु भी शामिल हैं।

 

फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को जल्द ही एक नयी खुश खबरी मिलने वाली है ,उनके परिवार में एक और नये सदस्य का आगमन होने वाला है। मार्क जुकरबर्ग ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि हमारे परिवार बढ़ने वाला है, और हमारी बेटी मैक्सिमा की एक और बहन आने वाली है, इसी के साथ ही फेसबुक परिवार में भी विस्तार होगा।जुकरबर्ग ने कल अपने फेसबुक पेज पर लिखा,‘‘ हम सब बेहतर लोग हैं क्योंकि हमारे जीवन में सशक्त महिलाएं—बहनें, मां और दोस्त हैं।’’ मार्क ने लिखा है कि ‘‘हम अपनी नयी संतान के लिए इंतजार नहीं कर सकते और दूसरी सशक्त महिला को बड़ा करने में हम अपनी सर्वश्रेष्ठ कोशिश करेंगे।’’
मार्क जुकरबर्ग ने अपने घर आने वाले नये मेहमान की जानकारी देने के साथ ही अपने जीवन में महिलाओं की भूमिका को अहम् बताया है। उन्होंने लिखा है कि,’ मैं तीन बहनों के साथ बड़ा हुआ, और उन्होंने मुझे स्मार्ट और मज़बूत विचारों वाली महिलाओं से सीखने को कहा। वे सिर्फ मेरी बहनें ही नहीं थीं बल्कि मेरे कुछ बेहतरीन दोस्तों में से थीं। उन्होंने मुझे बताया कि ज़िंदगी में आप कैसे प्रतिस्पर्धा करते हैं, और आखिर में मिलजुलकर मुस्कुराते भी हैं।
मार्क जुकरबर्ग की पत्नी प्रिसीला को अपनी पहली संतान के जन्म से पहले काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। उनकी पहली संतान मैक्सिमा के जन्म से पहले प्रिसीला को तीन बार गर्भपात हुआ था, ये वक़्त इस परिवार के लिए काफी मुश्किलों वाला था, लेकिन इन्होंने मज़बूती का परिचय दिया। और तमाम डॉक्टरी समस्याओं से उबर कर प्रिसीला ने अपनी पहली संतान मैक्स को जन्म दिया है। मैक्सिमा अब 15 महीने की हो चुकी है। मार्क ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि, ‘एक बहन का प्यार पाने से बड़ा गिफ़्ट मैं सोच ही नहीं सकता हूं, मैं बहुत खुश हूं कि मेरी बेटी मैक्सिमा और मेरी आने वाली संतान दोनों को एक दूसरे से बहन का प्यार मिलेगा।’
जुकरबर्ग की पत्नी प्रिसीला चान पेशे से चिकित्सक हैं और उन्होंने नवंबर 2015 में एक बेटी को जन्म दिया था। बेटी के जन्म के पश्चात जुकरबर्ग दंपत्ती ने कहा था कि वह फेसबुक से हुई कमाई का 99 फीसद हिस्सा, ‘‘दुनिया में आने वाली जिंदगियों का जीवन स्तर सुधारने’’के वास्ते परोपकारी पहल को दान करेंगे।इस दंपत्ति समर्थित एक धर्मार्थ फाउंडेशन ने बीमारियों को समाप्त करने की पहल के तहत इसी साल एक कनाडाई कृत्रिम बुद्धिमता वाला स्टार्टअप खरीदा है।

 

मार्क का फेसबुक पोस्ट देखने के लिए यहाँ क्लिक करे

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बुधवार तड़के आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) का संदिग्ध आतंकवादी सैफुल्लाह मारा गया। इसके कुछ घंटों बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की टीम मामले की जांच के लिए मौके पर पहुंच गई।

एनआईए की टीम ठाकुरगंज क्षेत्र की हाजी कॉलोनी में मारे गए आतंकवादी सैफुल्लाह के कब्जे से बरामद सामानों की जांच करेगी। इसी स्थान पर 11 घंटे लंबी चली मुठभेड़ में उत्तर प्रदेश आतंकवाद विरोधी टीम ने सैफुल्लाह को मार गिराया था।

पुलिस के मुताबिक, विभिन्न कंपनियों की छह बंदूकें, दो वायरलेस सेट, अलार्म , स्टील पाइप, आईएस का एक झंडा, दो लैपटॉप, बम बनाने के वीडियो, चार चाकू, दो पासपोर्ट और 600 जिंदा कारतूस बरामद किए गए हैं।

 

दो अन्य राज्यो की खुफिया एजेंसियों ने मंगलवार को मध्य प्रदेश में रेलगाड़ी में हुए विस्फोट के बाद पुलिस को लखनऊ, कानपुर और इटावा में संदिग्ध आतंकवादियों के होने की जानकारी दी।

यह मुठभेड़ लखनऊ में मंगलवार को शाम चार बजे के आसपास शुरू हुई, 11 से अधिक घंटों तक चली और बुधवार तड़के खत्म हुई।


एक संदिग्ध फैजल को कानपुर के तिवारीपुर क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है जबकि उसके बड़े भाई इमरान को उन्नाव से गिरफ्तार किया गया है। एटीएस इनसे पूछताछ कर रही है। कानपुर में एटीएस ने दो और लोगों को हिरासत में लिया था जिसे भीड़ ने छुड़ा लिया।

 

अहमदाबाद: प्रधानमंत्री पद संभालने के बाद नरेंद्र मोदी अपने गृह राज्य गुजरात के कुल मिला कर दसवें दौरे पर आज यहां पहुंच गए। गुजरात में पीएम मोदी दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे और कई अहम कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे। सबसे अहम भरूच में नर्मदा नदी पर बने देश के सबसे लम्बे एक्सट्रा डाज्ड केबल ब्रिज का आज मंगलवार को उद्घाटन करेंगे ।

ये हैं ब्रिज की खास बातें
- यह देश का सबसे लंबा ब्रिज है। इसकी लंबाई 1344 मीटर है और चौड़ाई 20.8 मीटर है।
- टॉवर Y शेप में बने हैं और इनकी संख्या 10 हैं। सभी की ऊंचाई 18 मीटर है। इन पर
216 केबल लगे हैं, हरेक केबल की लम्बाई 25 से 40 मीटर है।
- ब्रिज पर 17. 4 मीटर चौड़ी 4 लेन रोड है। फुटपाथ (रिवर व्यू) 3 मीटर का है।
- अक्तूबर 2014 में इसके बनने का काम शुरू हुआ था।
- इस ब्रिज को बनने में करीब 379 करोड़ रुपए खर्च हुए।
-ब्रिज शुरू होने से अहमदाबाद-मुंबई नैशनल हाईवे-8 पर भरूच में लगने वाले जाम से निजात मिलने की उम्मीद है।
- इसमें लाइटिंग इंटरनैशनल स्टैंडर्ड की की गई है। करीब 1.344 किलोमीटर तक लाइटिंग है।
- इस ब्रिज पर 400 से ज्यादा एलईडी लाइट्स लगाई गई हैं।

 

भारतीय मूल के बिजनेसमैन हरनिश पटेल की उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्‍या कर दी गई है। भारतीय मूल के बिजनेसमैन हरनिश पटेल को अमेरिका के साऊथ कारोलिना के बाहर गोली मार दी गई। मीडिया में आ रही रिपोर्ट के मुताबिक हरनिश पटेल गुरुवार को रात करीब 11.24 बजे दुकान बंद करके वापस लौट रहे थे तभी उनकी गोली मारकर उनकी हत्‍या कर दी गई।द हेराल्‍ड ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि लानकास्‍टार के अधिकारियों के मुताबिक हरनिश पटेल की हत्‍या के पीछे सभी वजहों की जांच की जा रही है।


हरनिश पटेल की हत्‍या के बाद लानकास्‍टर के लोगों में काफी गुस्‍सा भरा हुआ है। लोगों के मुताबिक हरनिश पटेल उनकी कम्‍युनिटी के लोगों में बहुत पसंद किये जाते थे और कानून को लागू करने में मदद करते थे।

वॉशिंगटन
राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के घंटे भर के भीतर ही डॉनल्ड ट्रंप ने ओबामाकेयर कानून को कम करने और चुनावी वादे को पूरा करने के लिए एग्जिक्युटिव ऑर्डर पर हस्ताक्षर कर दिये। ट्रंप ने चुनाव में ओबामाकेयर योजना को कम करने का वादा किया था, जिसके लिए उन्होंने ऑर्डर पर हस्ताक्षर कर ओबामा की शुरू की गई सस्ती स्वास्थ्य सेवा का भार कम करने का आदेश दिया। ट्रंप के हस्ताक्षर करने से कानून में ज्यादा परिवर्तन तो नहीं होगा, लेकिन थोड़ा प्रभाव जरूर पड़ेगा।

वाइट हाउस ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि संघीय एजेंसियों और विभागों को एक मेमोरेंडम भी भेजकर इन नियमों पर तत्काल रोक लगाने को कहा गया है। वाइट हाउस के ओवल ऑफिस में पहले सरकारी दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने के बाद ट्रम्प ने वहां मौजूद संवाददाताओं से कहा, 'बहुत व्यस्तता रही, लेकिन अच्छा रहा। एक शानदार दिन।' राष्ट्रपति बराक ओबामा की महत्वाकांक्षी सस्ती स्वास्थ्य सेवा योजना (अफॉर्डेबल केयर ऐक्ट) से संबंधित दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने के बाद ट्रम्प ने सरकारी विभागों और एजेंसियों को निर्देश दिया कि वे योजना के आर्थिक प्रभाव में कमी करें।

रिपब्लिकन हमेशा से इस हेल्थकेयर लॉ के खिलाफ रहे हैं। वे ओबामाकेयर की जगह कोई दूसरा कानून लाने की बात करते रहे हैं। प्रेजिडेंशल कैंपेन के दौरान ट्रंप ने अपने समर्थकों से वादा किया था कि राष्ट्रपति बनते ही वह इस कानून में संशोधन करेंगे। पिछले कुछ वर्षों में इस कानून को वापस लेने के प्रस्ताव पर सदन में 60 से ज्यादा बार मतदान हो चुके हैं, लेकिन ओबामा द्वारा विधेयक पर हस्ताक्षर नहीं करने के चलते इसे वापस नहीं लिया जा सका।

इसके अलावा ट्रंप के शपथ ग्रहण करने के कुछ ही देर बाद वाइट हाउस की वेबसाइट पर अपडेट किया गया कि नया प्रशासन 'क्लाइमेट ऐक्शन प्लान' को भी खत्म कर देगा। इसे भी पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रशासन के प्रमुख कदमों के भी गिना जाना है, जिसका उद्देश्य बिजली संयंत्रों से कार्बन उत्सर्जन रोकना है।

क्या है ओबामा केयर?
अमेरिकी लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के मकसद से बाराक ओबामा ने जो हेल्थकेयर प्लान शुरू किया, उसे ही ओबामाकेयर के नाम से जाना जाता है। इसका आधिकारिक नाम द पेशंट प्रोटेक्शन ऐंड अफॉर्डेबल केयर ऐक्ट (पीपीएसीए) है और 23 मार्च 2010 को इस बारे में कानून बना। इस कानून का मकसद अमेरिका में हेल्थ इंश्योरेंस की क्वॉलिटी और अफोर्डिबिलिटी को बढ़ाना और स्वास्थ्य मामलों पर लोगों द्वारा खर्च की जानेवाली रकम को कम करना है।

ओबामाकेयर स्वास्थ्य बीमा कानून है। इसके तहत वे लोग लाभान्वित हो रहे हैं, जिनका स्वास्थ्य बीमा नहीं हुआ है या आर्थिक वजहों से वे बीमा नहीं करा पाए हैं। सरकार इस कानून के जरिये प्रीमियम भुगतान में सब्सिडी देती है। इससे तकरीबन दो करोड़ अमेरिकी लाभान्वित हो रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि कानून वापस लेने से बीमा बाजार में उथल-पुथल की स्थिति पैदा हो जाएगी। साथ ही पुख्ता विकल्प की व्यवस्था करने की भी बात कही जा रही है।

इस कानून के तहत प्राइवेट कंपनियां पहले से निर्धारित रिस्क कंडीशन के आधार पर किसी भी शख्स को इंश्योरेंस कवर देने से इनकार नहीं कर सकती हैं। ओबामाकेयर इंश्योरेंस के तहत चार कैटिगरी है। ब्रॉन्ज, सिल्वर, गोल्ड और प्लैटिनम। हालांकि, इनमें से हर कैटिगरी के तहत इंश्योरेंस लेने वालों को बेसिक सुविधाएं मिलती हैं जिनमें अस्पताल में भर्ती होने की सुविधा, इमरजेंसी केयर, ऐंबुलेंस की सेवा, मैटरनिटी केयर आदि खास हैं।

भारत की सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद चंदू चव्‍हाण गलती से पाकिस्‍तानी सीमा में चले गए थे। वहां पर उन्‍हें बंधक बना लिया गया था।

भारतीय सैनिक सिपाही चंदू चव्‍हाण को पाकिस्‍तान रिहा कर दिया है। पाकिस्‍तानी अध्‍ािकारियों ने 21 जनवरी को दोपहर ढाई बजे उन्‍हें भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया। यहां आने के बाद उनकी चिकित्‍सा जांच की गई। गौरतलब है कि भारत की सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद चंदू चव्‍हाण गलती से पाकिस्‍तानी सीमा में चले गए थे। वहां पर उन्‍हें बंधक बना लिया गया था। इसके बाद से उन्‍हें रिहा कराने की कोशिशें की जा रही थीं। 23 वर्षीय चंदू बाबूलाल महाराष्ट्र के धुले जिले के वोरबीर गांव के रहनेवाले हैं। उनके पिता का नाम बाशन चौहान है। वह 37वीं राष्ट्रीय रायफल के जवान हैं। उनके भाई भी मिलिट्री में ही हैं। उनकी तैनाती फिलहाल गुजरात में है।

पिछले दिनों रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे ने कहा था कि 22 साल के भारतीय सैनिक चंदू चव्हाण को पाकिस्तान से सुरक्षित वापस लाने की कोशिशें लगातार की जा रही हैं। उन्‍होंने  बताया कि पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव भरे रिश्तों के मद्देनजर पाकिस्तान सरकार का यह कबूलनामा अहम है कि चव्हाण उनके कब्जे में है। इससे पहले, पाकिस्तानी थलसेना ने इस बात से इनकार किया था कि उसने किसी ऐसे जवान को पकड़ा है जो सितंबर में हुए लक्षित हमलों के बाद नियंत्रण रेखा गलती से पार कर गया था।

चव्हाण 37 राष्ट्रीय राइफल्स के जवान हैं। बाबूलाल ने 29 सितंबर को दोपहर के वक्त LOC पार कर ली थी। यह वही दिन था जब भारतीय डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक के होने की बात कबूली थी। हालांकि, सेना ने यह भी साफ कर दिया था कि बाबूलाल का स्ट्राइक से कोई लेना देना नहीं था। इस्लामाबाद स्थित पाकिस्तानी राजनयिक सूत्रों ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा था कि चंदू बाबूलाल को पाकिस्तानी सैनिकों ने मैनकोट के पश्चिम में झनद्रूत में अपने कब्जे में लिया था और अब उसे सेना के हेटक्वार्टर नियाकल में रखा गया है। बाबूलाल के पकड़े जाने की खबर उसकी नानी लीलाबाई चिंदा पाटील बर्दाशत नहीं कर पाई थी। बाबूलाल के पकड़े जाने की खबर जैसे ही उसकी नानी को मिली उनकी तबीयत बिगड़ गई और वह चल बसी थीं।

आपको बता दें कि भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में घुसकर आतंकियों के लॉन्च पैड तबाह कर दिए। स्पेशल फोर्सेज के कमांडो ने सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देते हुए PoK में आतंकियों के 7 कैंप तबाह कर दिए। करीब 4 घंटे चले इस ऑपरेशन में 38 आतंकी मारे गए थे। आतंकियों को बचाने के चक्कर में इस स्ट्राइक में 2 पाकिस्तानी सैनिक भी मारे गए।

Page 8 of 14

Contact Us

For General Enquiry
  •  : info@a1tv.tv
  •  : 0141 - 4515121, 4515151
For Advertising
  • : advt@a1tv.tv,      a1tv.advt@gmail.com
  •  : +91- 98280-11251, 98280-10551
  •  : +91- 98280-10551