SJ Financial II - шаблон joomla Форекс

wrapper

Breaking News

देश-विदेश

देश-विदेश (128)

गोरखपुर। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले की जांच रिपोर्ट को जिलाधिकारी ने सौंप दिया है। इस जांच रिपोर्ट में डीएम ने तीन को ज़िम्मेदार ठहराया है। जांच रिपोर्ट के मुताबिक, ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स और ऑक्सीजन यूनिट के इंचार्ज डॉक्टर सतीश लापरवाही का जिम्मेदार हैं।

जिलाधिकारी की रिपोर्ट में ऑक्सीजन सप्लायर कंपनी को भुगतान न होने के पीछे वित्तीय अनियमितता करने की मंशा का जिक्र किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया कि कंपनी ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई रोकने के लिए जिम्मेदार है। मासूम बच्चों की जिंदगी को देखते हुए कंपनी को ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई नहीं बंद करनी चाहिए थी।

रिपोर्ट में ये भी कहा गया कि मामले को लेकर डॉ. सतीश को लिखित रूप से अवगत भी कराया गया था, लेकिन उन्होंने ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति में बाधा पैदा की। वह ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई के लिए जिम्मेदार हैं, लिहाजा वह इसके लिए दोषी हैं। इसके अलावा स्टॉक बुक में लेनदेन का पूरा ब्योरा भी नहीं लिखा गया। सतीश की ओर से स्टॉक बुक का न तो अवलोकन किया गया और न ही उसमें हस्ताक्षार किया गया, जो सतीश की लापरवाही को दर्शाता है। उन्होंने इसको गंभीरता से नहीं लिया और घोर लापरवाही बरती।

श्रीनगरः घाटी में अलगाववादी नेताआें के आतंकवादी फंडिंग के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बड़ी कार्रवार्इ को अंजाम दिया है. बुधवार को एनआर्इए ने कड़ी कार्रवार्इ करते हुए जम्मू-कश्मीर में करीब 12 ठिकानों पर छापेमारी की है. इसमें श्रीनगर, हंदवाड़ा, बारामूला में छापेमारी की गयी है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, श्रीनगर में कारोबारी के दो ठिकानों पर छापेमारी की गयी है. खबरों के अनुसार, छापेमारी अब अभी भी जारी है.

गौरतलब है कि कश्मीर में टेरर फंडिंग को लेकर कुल 7 अलगाववादी नेताओं को पिछले महीने एनआईए की टीम ने गिरफ्तार किया था. इनमें से तीन नेताओं से लगातार 10 दिन तक एनआर्इए ने पूछताछ की. एनआर्इए इन्हीं नेताओं से आगे भी पूछताछ करना चाहती थी.  लिहाजा, कोर्ट ने बीते 4 अगस्त को तीन नेताओं को 30 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. NIA ने कोर्ट में दलील दी कि जब से इनकी गिरफ्तारी हुई है, घाटी में पत्थरबाजी की घटनाओं में खासा कमी आयी है. 

नयी दिल्ली/पटना/रांची. इस साल के माॅनसून में आसमान से बारिश बाढ़ के रूप में कहर बनकर बरस रही है. इस वजह से बिहार, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, झारखंड आैर आेड़िशा समेत पूरे देश में तबाही मची हुर्इ है. आलम यह है कि इस साल के अगस्त महीने में बारिश ने 100 साल का रिकाॅर्ड तोड़ दिया है. मंगलवार सुबह बेंगलुरू में शुरुआती तीन घंटों में रिकॉर्ड 180 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि अगस्त में पिछले 100 वर्षों में सर्वाधिक बारिश दर्ज की गयी है. बारिश ने पूरे शहर में कहर बरपा दिया और सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. सड़कें और घर बाढ़ के पानी में डूब गये हैं, जिससे 71वें स्वतंत्रता दिवस समारोहों पर पानी फिर गया.

पड़ोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आयी बाढ़ (फ्लैश फ्लड) से प्रदेश में अब तक 56 लोगों की मौत हो जाने के साथ बाढ़ से 13 जिलों की 69.41 लाख आबादी प्रभावित हुई है. बाढ़ प्रभावित प्रदेश के 13 जिलों किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल एवं मधेपुरा में से सबसे अधिक 20 लोग अररिया में, पश्चिमी चंपारण में 9, किशनगंज में 8, सीतामढी से 5, मधेपुरा में 4, पूर्वी चंपारण, दरभंगा एवं मधुबनी में 33 और शिवहर में एक व्यक्ति की मौत हुई है. उन्होंने बताया कि बाढ़ के कारण इन 13 जिलों के 98 प्रखंड और 1070 पंचायत प्रभावित हुए हैं और कुल 69.41 लाख आबादी प्रभावित हुई है.

बेंगलुरू. देश के जाने-माने अंतरिक्ष वैज्ञानिक और ISRO के पूर्व अध्यक्ष यूआर राव अब हमारे बीच नहीं रहे हैं. 85 साल के डुपी रामचंद्र राव का आज तड़के सुबह 2.30 बजे निधन हो गया. राव हृदय की बीमारी से जूझ रहे थे. मोदी ने  राव के निधन पर शोक जताया. उन्होंने कहा कि भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान में राव के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा.मोदी ने ट्वीट कर कहा, “प्रख्यात वैज्ञानिक यू.आर. राव के निधन से दुखी हूं. भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम में उनके योगदान को कभी नहीं भुलाया जा सकेगा.” राव का निधन बेंगलुरु स्थित उनके निवास पर तड़के करीब तीन बजे हुआ. बढ़ती उम्र में वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे. वह 85 साल के थे.  राव 1984 से 1994 तक इसरो के प्रमुख रहे.

प्रोफेसर राव इसरो के पूर्व मुखिया थे. प्रोफेसर राव फिजिकल रिसर्च लैबोरेटरी गवर्निंग काउंसिल के चेयरमैन थे, इसके अलावा वह तिरुवनंतपुरम में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस के भी वह चांसलर थे. अपने जीवन काल में प्रोफेसर राव ने कई अहम पदों पर अपनी सेवाएं थी, इसमें विदेशों के विश्वविद्यालय भी शामिल हैं. उन्होंने 10 अंतर्राष्ट्रीय अवॉर्ड और कई राष्ट्रीय अवॉर्ड भी जीते हैं. सतीश धवन के बाद प्रोफेसर राव ने 1984 से 1994 तक बतौर इसरो चीफ 10 साल तक अपनी सेवाएं दी.

प्रोफेसर राव का जन्म उडुपी के अदमपुर गांव में हुआ था. वह भारत के स्पेस अभियान से हमेशा से जुड़े रहे. उन्होंने एमजीके मेनन, सतीश धव और विक्र साराभाई जैसे दिग्गज वैज्ञानिकों के साथ काम किया था. आर्यभट्ट से लेकर मंगल अभियान तक इसरो के कई प्रोजेक्टस पर प्रोफेसर राव ने काम किया. प्रोफेसर राव के साथी वैज्ञानिकों का कहना है कि अपने क्षेत्र में प्रोफेसर राव को जबरदस्त ज्ञान था, वह हमेशा नई तकनीक से अपडेट रहते थे. इसी साल जनवरी माह में प्रोफेसर राव को पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था. इस सम्मान को हासिल करने के बाद राव ने कहा था कि मुझे लगा था कि यह सम्मान मुझे मरणोपरांत मिलेगा.

1 जुलाई से समूचे देश में वस्तु एवं सेवा कर लागू हो गया है । जीएसटी लागू होने के बाद 15 दिनों के आंकड़ों से ये पता चला है कि अगर इसी रफ्तार से राजस्व में बढ़ोत्तरी हुई तो महीने-दर-महीने राजस्व में 11 फीसदी की बढ़त होगी।
इस बात की जानकारी केंद्रीय उत्पाद शुल्क और सीमा शुल्क बोर्ड ने दी। सीबीईसी के मुताबिक एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच आयात से प्राप्त कुल राजस्व 12,673 करोड़ रुपये रहा, जबकि जून महीने में समान अवधि में यह 11,405 करोड़ रुपये था।
सीबीईसी की प्रमुख वनजा सरना ने कहा कि सीमा शुल्क से ठीकठाक राजस्व प्राप्त हुआ है। हमें उम्मीद है कि राजस्व की मात्रा पिछले महीने जितनी ही होगी। हालांकि हम साल दर साल आधार पर इसमें बहुत अधिक वृद्धि की उम्मीद नहीं कर रहे हैं। 30 जून की आधी रात से प्रथम 15 दिनों में कुल 12,673 करोड़ रुपये का राजस्व इकट्ठा किया गया है।
हालांकि जीएसटी से राजस्व को कितना फायदा हुआ है इस बात का पता अक्टूबर में ही चलेगा क्योंकि सभी व्यापारी सितंबर में रिटर्न दाखिल करेंगे। वित्त मंत्री अरूण जेटली के मुताबिक जीएसटी के तहत आधार में 80 लाख तक की आसानी से बढ़ोतरी होगी।
गौरतलब है कि जीएसटी लागू होने के बाद नए और पुराने मिलाकर 75 लाख पंजीकरण किए गए हैं।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को साफ कहा कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के बीमार छात्र को बिना किसी सिफारिश के भारतीय वीजा दिया जाएगा. ताकि वह इलाज के लिए भारत आ सके. उन्होंने कहा, ‘पीओके भारत का अभिन्न हिस्सा है. पाकिस्तान ने जबरन इस इलाके पर कब्ज़ा कर रखा है. हम उस बच्चे को वीजा ज़ारी कर रहे हैं. उसके लिए पाकिस्तान से किसी सिफारिश की ज़रूरत नहीं है.’

डीएनए में प्रकाशित ख़बर के मुताबिक पीआेके में रावलकोट के रहने वाले 24 वर्षीय ओसामा अली के लिवर में ट्यूमर है. वह इलाज़ के लिए भारत आना चाहता है. नई दिल्ली के साकेत में स्थित एक अस्पताल में ऑपरेशन के लिए उसका पंजीयन भी हो चुका है. लेकिन उसे भारतीय वीजा नहीं मिल पा रहा है क्योंकि पाकिस्तान के विदेश सलाहकार सरताज़ अजीज़ इस बाबत सिफारिशी पत्र नहीं लिख रहे हैं.

यहां बताते चलें कि सीमा पर बने तनाव के मद्देनज़र भारत ने यह शर्त रखी हुई है कि पाकिस्तान के उन्हीं नागरिकों को भारतीय वीजा दिया जाएगा जिनके आवेदन के साथ अजीज़ का सिफारिशी पत्र लगा होगा. इसी वज़ह से ओसामा के परिवार ने अजीज़ से सिफारिशी पत्र लिखने का आग्रह किया था. लेकिन द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक अजीज़ के दफ्तर ने इस परिवार की अर्ज़ी को सिरे से ख़ारिज़ कर दिया.

इसके बाद आेसामा के परिवार ने सीधे भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से वीजा ज़ारी करने की अपील की थी. इसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है. वैसे यह पहला मौका नहीं है कि जब स्वराज ने अजीज़ के रवैये को लेकर पाकिस्तान पर हमला किया हो. क़रीब एक हफ्ते पहले भी उन्होंने अजीज़ पर आरोप लगाया था. स्वराज ने कहा था, ‘मैंने कुलभूषण जाधव (पाकिस्तान में कैद भारतीय नौसेना के पूर्व अफसर) की मां को वीजा ज़ारी करने के लिए अजीज़ को पत्र लिखा था. लेकिन उन्होंने उसका ज़वाब देना तक ज़रूरी नहीं समझा.’

नयी दिल्ली। बहुजन समाज पाटी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा में दलितों का मुद्दा नहीं उठाये दिये जाने के विरोध में सदन की सदस्यता से इस्तीफा देने की आज घोषणा की। राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान अपनी बात नहीं रखने देने से बिफरी मायावती ने सदन से बहिर्गमन के बाद संवाददाताओं से कहा “मैंने स्थगन प्रस्ताव के तहत नोटिस दिया था जिसमें बोलने के लिए तीन मिनट की कोई सीमा नहीं होती।
जब मैंने सहारनपुर जिले के सबीरपुर गाँव का मामला उठाने की कोशिश की तो सत्ता पक्ष के सदस्य खड़े होकर हंगामा करने लगे और मुझे नहीं बोलने दिया गया। यदि मैं दलितों-वंचितों का मामला सदन में नहीं उठा सकती तो मेरा राज्यसभा में आने का क्या फायदा। इसलिए मैंने इस्तीफा देने का फैसला किया है।” एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि वह आज ही अपना इस्तीफा सौंप देंगी।

योग गुरु और पतंजलि ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन के फाउंडर बाबा रामदेव ने अपनी सिक्योरिटी फर्म पराक्रम सुरक्षा प्राइवेट लिमिटेड लॉन्च कर दी है. इसी के साथ अब वो प्राइवेट सिक्योरिटी बिजनेस में भी पैर जमाने के रास्ते पर निकल चुके हैं. रामदेव अब एफएमसीजी और आर्युवेद से अलग हट कर भी कुछ करने का प्लान कर रहे हैं, जिसके चलते ही उन्होंने प्राइवेट सिक्योरिटी फर्म लॉन्च करने का फैसला किया है.
उन्होंने अपने एक बयान में कहा है कि हमारा मकसद है कि हम लोगों को खुद की और देश की सुरक्षा के लिए तैयार करें और इसलिए हमने 'पराक्रम' को लॉन्च किया है. युवकों को ट्रेनिंग देने के लिए रामदेव ने रिटायर्ड आर्मी और पुलिस अधिकारियों को हायर किया है.
बताया जा रहा है कि पहले बैच के 100 कर्मचारियों को पिछले एक महीने से हरिद्वार में पतंजलि परिसर में ट्रेनिंग दी जा रही है. रामदेव कॉर्पोरेट ऑफिस और शॉपिंग मॉल्स को सिक्‍योरिटी सर्विस दें सकते हैं.
पीटीआई के मुताबिक रामदेव का एफएमसीजी और आर्युवेद बिजनेस का टर्नओर 2016 में 1100 करोड़ रुपए था. इसी वर्ष पतंजलि के सीईओ आचार्य बालकृष्ण को देश का 25वां सबसे अमीर शख्स बताया गया था.
मार्केट 3 साल में हो जाएगा दोगुना
FICCI (फेडरेशन ऑफ इंडियन चेंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री) की स्टडी के मुताबिक, पिछले कुछ साल में प्राइवेट सिक्‍योरिटी बिजनेस में बड़ा उछाल देखने को मिला है. सन 2020 तक यह मार्केट 40 हजार करोड़ रुपए से बढ़कर 80 हजार करोड़ रुपए पर पहुंच सकता है.

नई दिल्ली.  आधार कार्ड को लेकर अच्छी खबर है. सरकार नई व्यवस्था करने जा रही है, जिसके तहत आधार कार्ड बनाने से लेकर उसमें किसी भी तरह का अपडेट करने संबंधी काम अब बैंकों में हो सकेंगे. सरकारी बैंकों के साथ ही प्रायवेट बैंकों में यह सुविधा होगी. ये बैंक अपने ग्राहकों को ही आधार संबंधी सेवाएं प्रदान करेंगे.

मालूम हो, सरकार ने बैंक खाते से आधार लिंक करने के लिए 31 दिसंबर तक का वक्त दिया है. इसके बाद जिन खातों से आधार लिंक नहीं है, वे बंद कर दिए जाएंगे.

अधिकारियों के अनुसार, अधिकांश बैंकों ने आधार से खाते को लिंक करने की ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध कराई है, लेकिन बड़ी संख्या में लोग एेसे भी हैं, जिनके आधार अपडेट नहीं हैं. किसी को पता बदलवाना है तो किसी को फोटो अपडेट करवाना है. इसे देखते हुए नियम बनाया जा रहा है कि सभी बैंकों को अपने परिसर में आधार कार्ड बनवाने या अपडेट करवाना की सुविधा देना होगी.

इसके बाद खाताधारकों के आधार संबंधी सारे काम बैंक में ही हो जाएंगे, उन्हें आधार सेंटर के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे. यदि किसी खाताधारक के पास आधार है, लेकिन उसकी डिटेल्स बैंक की डिटेल्स के मेल नहीं खा रही है, तो भी बैंक को ही आधार अपडेट करना होगा.

यह हो सकती है व्यवस्था

खबरों के मुताबिक, UIDAI इस बारे में जल्द आदेश जारी करेगा. माना जा रहा है कि एक ही बैंक की आसपास की पांच-छह शाखाओं में से किसी एक में यह सुविधा दी जाएगी, क्योंकि बैंक के लिए हर शाखा में यह व्यवस्था करना मुश्किल होगा. ग्राहकों को इस बारे में सूचना देकर संबंधित ब्रांच पर भेजा जा सकेगा.

Page 1 of 15

Contact Us

For General Enquiry
  •  : info@a1tv.tv
  •  : 0141 - 4515121, 4515151
For Advertising
  • : advt@a1tv.tv,      a1tv.advt@gmail.com
  •  : +91- 98280-11251, 98280-10551
  •  : +91- 98280-10551