SJ Financial II - шаблон joomla Форекс

wrapper

Breaking News

राजस्थान आज

राजस्थान आज (146)

जयपुर. आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलित जाट रेलवे ट्रैक पर आ गए हैं. भरतपुर में जाट प्रदर्शनकारियों ने अलवर-मथुरा रेल मार्ग को ब्लॉक कर दिया है. गुरुवार से शुरू हुआ जाट आंदोलन आज दूसरे दिन और भी ज्यादा आक्रामक हो गया है. कांग्रेस विधायक विश्वेंद्र सिंह की अगुवाई में जाट एकजुट हो गए हैं.

सुबह से ही आंदोलन में तेजी देखी जा रही थी. रेलवे ट्रैक रोककर बैठे जाटों ने आज रेल यातायात के साथ ही हाईवे पर भी जाम लगा दिया है. सुबह से ही आंदोलन और उग्र होता दिखाई दे रहा है. अलवर मथुरा रेलवे ट्रैक के जाम होने से राजस्थान की कनेक्टिविटी यूपी बिहार पश्चिम बंगाल से कट गयी है. इसके चलते मथुरा से जयपुर,बांदीकुई से आगरा फोर्ट,अलवर से मथुरा का यातायात पूरी तरह से बंद हो गया है.

आंदोलन का असर अब रेल के बाद सड़क मार्ग पर भी दिखायी दे रहा है. जाट आंदोलनकारियों ने भरतपुर के सड़कमार्ग को भी अवरुद्ध कर दिया है जिसके चलते भरतपुर का सम्पर्क सड़कमार्ग से पूरी तरह से कट गया हैं.आंदोलनकारियों ने सड़क पर बड़े-बड़े पेड़ गिरा दिये हैं.  जाट आरक्षण संघर्ष समिति के संरक्षक ​विश्वेन्द्र सिंह के नेतृत्व में आंदोलन अब धीरे-धीरे तेज हो रहा है.संघर्ष ​समिती का कहना है कि आंदोलन फिलहाल शांतीपूर्वक हो रहा है लेकिन अगर सरकार ने मांगें नहीं मानी तो किसी भी अप्रिय घटना की जिम्मेदार स्वयं सरकार होगी.

बता दें कि कांग्रेस विधायक विश्वेन्द्र सिंह के नेतृत्व में जाटों ने गुरुवार को भी रेलवे ट्रैक जाम किया था. करीब 2000 से ज्यादा जाट इस दौरान पटरियों पर पहुंचे थे.

राजस्थान के जयपुर एयरपोर्ट पर शुक्रवार सुबह जेट एयरवेज के एक विमान की इमरजेंसी लैंडिंग से हड़कंप मच गया.
विमान (9W 2369) में फ्यूल की कमी के चलते अचानक लैंडिंग की अनुमति मांगी थी. जेट एयरवेज का यह विमान लेह से दिल्ली की ओर जा रहा था. बताया जा रहा है कि विमान में 125 यात्री सवार थे और और उसमें फ्यूल महज 20 मील की दूरी तय करने जितना ही बचा था.
हालांकि जयपुर एयरपोर्ट पर पायलट की सूझबूझ से लैंडिंग हुई और सभी 125 यात्री सकुशल हैं. बता दें कि जेट एयरवेज की यह फ्लाइट की लेह से सुबह 7:40 से उड़ान भरकर 9:05 बजे दिल्ली में लैंडिंग होने वाली थी. जयपुर एयरपोर्ट पर फ्यूल लेने के बाद भी दिल्ली के लिए उड़ान के लिए यात्रियों को खास इंतजार करना पड़ा. इसके पीछे दिल्ली में मौसम खराब होना वजह बताया गया.

देश के 23 रेलवे स्टेशनों को नीलामी के बाद सुधार के लिए निजी हाथों में दिया जाएगा। निजी कम्पनियां न केवल आधुनिकरण पर जोर देंगी, वहीं इसके साथ ही पूरी तरह से कायापटल करेंगी।
 
दरअसल, रेलवे पुनर्विकास कार्यक्रम के तहत उदयपुर सहित देश के 23 रेलवे स्टेशनों को केंद्र सरकार ने पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत अन्तरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर विकसित करने के लिए निजी कम्पनियों के हवाले करने का फैसला किया गया है। इस कार्यक्रम के पहले चरण में राजस्थान का एकमात्र शहर उदयपुर शमिल किया गया है। 28 जून को इनकी ऑनलाइन नीलामी होगी। इच्छुक कंपनी या व्यक्ति रेलवे की वेबसाइट पर जाकर स्टेशनों की बोली लगा सकेंगे। नीलामी के दो दिन बाद 30 जून को इसका ऐलान होगा।

जानकारी के मुताबिक उदयपुर के अलावा हावड़ा, मुंबई सेंट्रल, चेन्नई सेंट्रल, कानपुर, इलाहबाद जंक्शन जैसे रेलवे स्टेशन भी शामिल हैं। ये पूरी योजना करीब चार हजार करोड़ रुपए की है।

उदयपुर सिटी रेलवे स्टेशन के इस योजना में शामिल होने के बाद आमूलचूल परिवर्तन देखा जा सकेगा। इसमें कई तरह के बदलाव होंगे। निजी हाथों में रेलवे स्टेशन सौंपे जाने के बाद 45 साल तक की लीज पर स्टेशन निजी कम्पनी को दिया जाएगा। पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत स्टेशन पर होने वाले व्यवसाय और प्रबंधन जैसे साफ-सफाई पानी की व्यवस्था निजी हाथों में रहेगी। वहीं सुरक्षा व्यवस्था, टिकट बिक्री और पार्सल के साथ-साथ ट्रेनों के परिचालन की जिम्मेदारी रेलवे संभालेगा।

रेलवे की सुरक्षा व्यवस्था के अलावा निजी कंपनी के गार्ड भी स्टेशन परिसर के अलग-अलग हिस्सों में तैनात रहेंगे। इस अवधि में लीज ठेका लेने वाली कम्पनी को रेलवे स्टेशन को  विश्वस्तरीय सुविधाओं से परिपूर्ण करना होगा। निजी कम्पनियां रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म पर फूड स्टॉल, रिटायरिंग रूम, फ्रेश एरिया, प्ले एरिया भी विकसित करेंगी। रेलवे स्टेशन की खाली जमीन पर कंपनी फाइव स्टार होटल, शॉपिंग मॉल और मल्टी प्लेक्स बना सकेंगी।

जयपुर। माध्यमिक शिक्षा परिषद राजस्थान ने आज गुरूवार, 8 जून को 10वीं परीक्षा के रिजल्ट घोषित कर दिया है। यह रिजल्ट बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट www.rajeduboard.rajasthan.gov.in पर जारी हुए हैं।

रिजल्ट का ऐलान राज्य के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने किया। इसके अलावा छात्र इस लिंक rajasthan10.jagranjosh.com पर क्लिक करके भी रिजल्ट देख सकते हैं।

10वीं की परीक्षा में इस साल परीक्षा में 1098921 उम्मीदवारों ने भाग लिया था, जिसमें 6 लाख 30 हजार 342 छात्र और 4 लाख 68 हजार 479 छात्राएं शामिल हैं। परीक्षा का आयोजन 9 मार्च से 21 मार्च के बीच किया गया था।

2016 की बोर्ड परीक्षा में 10 लाख 81 हजार उम्मीदवारों ने भाग लिया था, जिसमें 75.80 फीसदी विद्यार्थी पास हुए थे। पास होने वाले उम्मीदवारों में छात्रों का पास प्रतिशत 76.02 जबकि छात्राओं का पास प्रतिशत 75.70 रहा था। पिछले साल तनिषा विजय ने प्रथम स्थान हासिल किया है। बोर्ड ने हाल ही में 12वीं परीक्षा के नतीजे जारी किए थे, जिसमें वाणिज्य और कला के एक साथ जबकि साइंस के नतीजे अलग से घोषित किए गए थे।

जयपुर. राजस्‍थान की राजधानी जयपुर में गर्मी ने जानवरों का दिमाग भी खराब कर दिया है. रविवार को जयपुर क्लब के सामने से आ रहे घोड़े का दिमाग खराब हो गया और वह सामने से आ रही कार का शीशा तोड़ता हुआ सीधे कार में जा घुसा.

काफी मशक्‍कत के बाद घोड़े को कार से बाहर निकाला जा सका. हालांकि, गनीमत यह रही कि दुर्घटना में कार ड्राइवर और घोड़े को ज्‍यादा चोटें नहीं आईं. घोड़े के टांगों में शीशे के कुछ टुकड़े धंस गए थे. इसके चलते उसे कार से निकालने में काफी परेशानी हुई.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि वे समझ ही नहीं पाए कि आखिर ये हादसा हुआ कैसे? इस दुर्घटना को देखने वालों ने बताया कि कार सिविल लाइंस की ओर से आ रही थी. वहीं रेलवे स्टेशन की ओर से एक व्यक्ति पैदल चलकर घोड़ा ले जा रहा था. तभी जयपुर क्लब के सामने अचानक घोड़ा बिदक गया और कार के आगे का शीशा तोड़कर अंदर घुस गया.

वह करीब 10 मिनट तक कार में फंसा रहा. वहां मौजूद किसी भी व्यक्ति को घोड़े को बाहर निकालने का रास्‍ता नहीं समझ आ रहा था. इसके बाद स्थानीय लोगों की मदद से कार का दरवाजा तोड़कर घोड़े को कार से बाहर निकाला गया.

राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन (आरसीए) का चुनावी घमासान सोमवार सुबह 8 बजे से शुरू हो गया था. गुटबाजी में उलझे राजस्थान क्रिकेट के लिए यह चुनाव जितना महत्वपूर्ण है उतना ही दोनों गुटों की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है.

हालांकि ऐन वक्त पर बीजेपी की गुगली यानी राज्यसभा सांसद हर्षवर्धन सिंह के नामाकन वापसी से ललित मोदी गुट का पलड़ा भारी बताया जा रहा है, लेकिन दूसरा गुट भी इस जंग में अपनी जीत का दावा कर रहा है.

बीजेपी की चाल से मोदी-जोशी में सीधा मुकाबला
सांसद हर्षवर्धन के नाम वापस लेने के बाद अब अध्यक्ष पद पर ललित मोदी के बेटे रुचिर मोदी और आरसीए के पूर्व अध्यक्ष और कांग्रेस नेता डॉ.सीपी जोशी के बीच सीधा मुकाबला है.

नतीजों की घोषणा नहीं, कोर्ट की रोक
चुनाव आरसीए एकेडमी में सोमवार सुबह 8 से 11 बज तक वोटिंग हुई है और बैलेट बॉक्स सीलबंद कर दिया गया. हाईकोर्ट की रोक के चलते नतीजों की घोषणा सोमवार को नहीं की जाएगी. हालांकि, चुनाव अधिकारी के मतगणना के समय दोनों गुटों के एजेंट को अनुमति देने से मना करने के बाद जोशी गुट के समर्थनों ने इसका विरोध किया. जोशी गुट के विरोध के बाद रिटायर जस्टिस ज्ञानसुधा मिश्रा ने दूरे गुट से चर्चा के बाद बैलेट बॉक्स सीलबंद करने का फैसला किया.

राजस्थान में गुर्जर आंदोलन एक बार फिर वसुंधरा राजे सरकार की सिरदर्द बन सकता है. गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने राज्य सरकार को उनके समुदाय के लिए 10 दिनों के भीतर आरक्षण लागू करने का अल्टीमेटम दिया है. बैंसला का कहना है कि अगर ऐसा नहीं होता है तो गुर्जर एक बार फिर सड़कों पर उतरेंगे.

 

भरतपुर में जुटे गुर्जर
मंगलवार को भरतपुर के बयाना इलाके के पीलूपुरा गांव में गुर्जर आरक्षण आंदोलन में मारे गए गुर्जरों को श्रद्धांजलि देने के लिए कार्यक्रम का आयोजन हुआ. कार्यक्रम में बैंसला के अलावा गुर्जर समाज के कई और बड़े नेताओं ने भी शिरकत की. इस मौके पर बैंसला ने दावा किया कि विशेष पिछड़ा वर्ग में आरक्षण गुर्जरों का हक है.

कहां अटका है मामला?
राजस्थान सरकार ने विशेष पिछड़ा वर्ग की एक अलग कैटेगरी बनाकर गुर्जरों को पांच फीसदी आरक्षण दिया था. लेकिन राज्य में कुल आरक्षण की सीमा 50 फीसदी से ज्यादा होने की वजह से हाईकोर्ट ने फैसले पर रोक लगा दी थी. इसके बाद गुर्जरों की मांग पर राजस्थान सरकार हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गई है. लेकिन अबतक वहां से गुर्जरों को कोई राहत नही मिली है. इसके बाद राजस्थान में गुर्जर समाज को विशेष पिछड़ा वर्ग के आरक्षण से बाहर कर दिया गया है. वो दोबारा ओबीसी वर्ग का हिस्सा हैं.

सरकार के खिलाफ गुस्सा
मौजूदा हालात को लेकर गुर्जर समाज में गुस्सा है. गुर्जर प्रतिनिधि आरक्षण को लागू करने में नाकामी के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार मान रहे हैं. पिछले दो गुर्जर आरक्षण आंदोलनों में करीब 120 लोगों की जानें गई थीं और करोड़ों की सार्वजनिक संपत्ति का नुकसान हुआ था. एक महीने से ज्यादा समय तक रेल और हाईवे बंद रहे थे. तब भी राज्य में बीजेपी की वसुंधरा सरकार हीं थी. ऐसे में फिर से गुर्जर आरक्षण की धमकी के बाद लोग सहमे हुए हैं.

 

राजस्थान की राजधानी जयपुर के बंसल अस्पताल में बरकत नगर निवासी रतनलाल सैनी की मौत के बाद डॉक्टर से मारपीट के मामले में मंगलवार को भी गतिरोध जारी है.
सवाई मानसिंह अस्पताल के सभागार में सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों से जुड़े डॉक्टरों और संगठनों के पदाधिकारियों की बैठक में भी रास्ता नहीं निकला. विरोध में उतरे डॉक्टर अब आरोपियों की गिरफ्तारी और सुरक्षा कानून को सख्ती से लागू करने की मांग पर 48 घंटों का अल्टीमेटम देने का विचार कर रहे हैं. यदि ऐसा होता है तो राजधानी जयपुर समेत प्रदेशभर में सभी प्रकार की चिकित्सा सेवाएं बंद हो सकती हैं. इस दौरान मेडिकल स्टोर भी बंद रखे जाने से समस्या और भी विकट हो सकती है.
इससे पहले प्राइवेट हॉस्पिटल संचालकों के साथ बीसुका उपाध्यक्ष डॉ. दिगम्बर सिंह की बैठक भी बेनतीजा रही. इसमें भी दोषियों की गिरफ्तारी की मांग उठती रही. बैठक में दिगम्बर सिंह ने चिकित्सकों की मांगों और उनके पक्ष को सुनकर कार्रवाई की बात कही.
यहां डॉ. सिंह ने चिकित्सकों की सुरक्षा से जुड़े कानून को प्रभावी रुप से लागू करने के लिए सीएम राजे एवं चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ से बात करने का भी आश्वासन दिया. बैठक के बाद उन्होंने दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने का भरोसा चिकित्सकों को दिलाया.
 

नई दिल्ली. भारतीय सेना को करीब तीन दशक बाद नई तोपें मिलेंगी. गुरुवार (18 मई) को अमेरिका के बीएई सिस्टम से मिली दो 155 एमएम/39 कैलिबर अल्ट्रा लाइट हॉविटजर्स (यूएलएच) तोपों का राजस्थान के पोखरण स्थित फायरिंग रेंज में परीक्षण किया जाएगा. करीब तीन दशक पहले भारत द्वारा स्वीडन की कंपनी से खरीदी गयी बोफोर्स तोपों ने भारतीय राजनीति में भूचाल ला दिया था. बोफोर्स तोपों की खरीद में दलाली लेने का आरोप लगा था.

एम-777 हॉविटजर्स तोपों के खरीद को लेकर अमेरिका से साल 2010 में बातचीत शुरू हुई थी. 26 जून 2016 को नरेंद्र मोदी सरकार ने 145 तोपों की खरीद की घोषणा की. फॉरेन मिलिट्री सेल्स (एफएमएस) के तहत सरकार से सरकार के बीच हुए 2900 करोड़ रुपये के इस सौदे पर नवंबर 2016 में अंतिम मुहर लगी. 1980 के दशक में स्वीडिश कंपनी से खरीदी गयीं बोफोर्स तोपों के बाद भारतीय सेना में कोई नई तोप नहीं शामिल की गयी थी.

बोफोर्स तोपों में दलाली के आरोप से आये राजनीतिक तूफान की वजह से सेना के तोपखाने से जुड़े तमाम सौदों पर एक तरह से रोक लग गयी थी जिसके कारण भारतीय सेना का तोपखाना अत्याधुनिक तोपों से महरूम था. भारतीय सेना साल 2020 तक 169 रेजिमेंट में 3503 तोपों को शामिल करना चाहती है. इन तोपों में भारत में निर्मित अत्याधुनिक तोपों भी शामिल होंगी. हालांकि भारतीय तोपों का निर्माण कार्य तय मियाद से पीछे चल रहा है.

जिन दो एम777 हॉविटजर्स तोपों का पोखरण में परीक्षण होगा उनसे विभिन्न प्रकार के आयुधों का इस्तेमाल करके देखा जाएगा. इन तोपों को भारतीय वातावरण में भारतीय आयुधों को दागने लायक बनाया गया है. अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया की सेनाएं पहले ही एम777 हॉविटजर्स तोपों का प्रयोग कर रही हैं. इराक़ और अफ़ग़ानिस्तान में ये तोपों तैनात हैं.

जयपुर. जयपुर में बुधवार सुबह आॅनर किलिंग का एक हाई प्रोफाइल मामला सामने आया. करीब दो साल पहले प्रेम विवाह करने वाले एक सिविल इंजीनियर युवक को उसके ससुराल वालों ने घर में ही गोली मार दी. मामले में सास ससुर, साले और उसके दोस्त के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

जयपुर के जगदम्बा नगर में रहने वाले अमित नायर की इस मामले में मौत हुई है. मौके पर मौजूद अमित के भाई के अनुसार अमित ने करीब दो साल पहले सीकर की रहने वाली ममता चौधरी से प्रेम विवाह किया था. अमित केरल का रहने वाला है और जयपुर में सिविल इंजीनियर है. अमित के ससुरालवाले शुरू से ही उसकी शादी के खिलाफ थे.

उन्होंने कई बार ममता को वापस बुलाने की कोशिश की, लेकिन ममता नहीं गई. इस समय ममता गर्भवती है. बुधवार सुबह ममता के माता-पिता अमित के घर आए. कमरे में बैठे. अमित को बुलाया. तीनों में विवाद हुआ और बात चल ही रही थी कि दो युवक घर में आए और सोफे पर बैठे अमित पर तीन गोली चला दी. अमित को अस्पताल ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई. घटना के बाद सास- ससुर और साला व उसका दोस्त फरार बताए जा रहे है.

Page 1 of 11

Contact Us

For General Enquiry
  •  : info@a1tv.tv
  •  : 0141 - 4515121, 4515151
For Advertising
  • : advt@a1tv.tv,      a1tv.advt@gmail.com
  •  : +91- 98280-11251, 98280-10551
  •  : +91- 98280-10551