SJ Financial II - шаблон joomla Форекс

wrapper

Breaking News

देश-विदेश

देश-विदेश (128)

नई दिल्ली। सुप्रीमकोर्ट ने सोमवार को मद्रास हाईकोर्ट के आदेश को निरस्त करते हुए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) पर स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए नीट 2017 के नतीजे घोषित करने को लेकर लगी रोक हटा दी।बोर्ड को नतीजों की घोषणा करने और काउंसलिंग और प्रवेश प्रक्रिया शुरू करने की अनुमति देते हुए न्यायाधीश प्रफुल्ल सी. पंत और न्यायाधीश दीपक गुप्ता की अवकाशकालीन पीठ ने देशभर के सभी उच्च न्यायालयों को नीट 2017 से संबंधित किसी भी याचिका पर सुनवाई नहीं करने को कहा।मद्रास उच्च न्यायालय के 24 मई के आदेश पर रोक लगाते हुए न्यायाधीश पंत ने कहा कि उच्च न्यायालय को इसकी प्रक्रिया में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए था।

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई की याचिका पर सभी संबंधित पक्षों पर नोटिस जारी किया है साथ ही कहा है कि कोई भी हाईकोर्ट इस मसले पर याचिका की सुनवाई न करे। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई से कहा कि वह रिजल्‍ट जारी करे और काउंसलिंग शुरू करे। इसके बाद बताया जा रहा है कि बोर्ड 10 दिन के अंदर रिजल्‍ट जारी कर सकता है।

नीट का आयोजन मेडिकल और डेंटल कॉलेज में एमबीबीएस और बीडीएस कोर्सेस में प्रवेश के लिए किया जाता है। इस परीक्षा के द्वारा उन कॉलेजों में प्रवेश मिलता है, जो मेडिकल कांउसिल ऑफ इंडिया और डेटल कांउसिल ऑफ इंडिया के द्वारा संचालित किया जाता है।

नीट रिजल्‍ट पर रोक का मामला करीब 12 लाख अभ्यार्थियों के भविष्य से जुड़ा है। करीब साढे दस लाख छात्रों ने हिन्दी या अंग्रेजी भाषा में परीक्षा दी थी, जबकि करीब सवा से डेढ लाख छात्रों आठ क्षेत्रीय भाषाओं में परीक्षा में बैठे थे।

नासा ने रिकॉर्ड 18,000 से ज्यादा आवेदकों में से एक भारतीय-अमेरिकी सहित 12 नए अंतरिक्ष यात्रियों का चयन किया है, जिन्हें पृथ्वी की कक्षा और सुदूर अंतरिक्ष में अभियानों के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा.
इस समूह में सात पुरुष और पांच महिलाएं हैं. नासा का यह पिछले दो दशकों में सबसे बड़ा चयनित समूह है. इन लोगों को चयन रिकॉर्ड 18,300 आवेदकों में किया गया है. नासा को किसी खुले अंतरिक्ष यात्री निमंत्रण के दौरान पहले कभी इतने आवेदन नहीं मिले. अंतरिक्ष यात्री के तौर पर चुने जाने के लिए उम्मीदवारों को कुछ शारीरिक अनिवार्यताओं के साथ ही शिक्षा और अनुभव संबंधी मापदंडों को पूरा करना था जैसे कि उनके पास विज्ञान, तकनीक, इंजीनियरिंग और गणित (स्टेम) में स्नातक की डिग्री या जेट विमान को उड़ाने का 1,000 घंटों का अनुभव होना चाहिए.
चुने गए अंतरिक्ष यात्रियों को दो साल का प्रशिक्षण दिया जाएगा. प्रशिक्षण खत्म होने के बाद उन्हें अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में मिशन के दौरान अनुसंधान का काम सौंपा जा सकता है. अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेंस ने नासा अधिकारियों के साथ मिलकर चयनित अंतरिक्ष यात्रियों की घोषणा ह्यूस्टन में की. पेंस ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अंतरिक्ष में नासा के मिशन के प्रति दृढ़ता से प्रतिबद्ध हैं और अमेरिका फिर से अंतरिक्ष में नेतृत्व करेगा.

भारत का सबसे ताकतवर और अब-तक का सबसे भारी उपग्रह जीएसएलवी (GSLV) मार्क-3 को आज शाम 5.28 बदजे श्रीहरिकोटा से 120 किमी दूर दूसरे लॉन्च पैड सतीश धवन स्पेस सेंटर से लॉन्च किया जाएगा। आपको बता दें, यह रॉकेट संचार जीसैट-19 को लेकर जाएगा।

इसकी खासियत है कि GSLV मार्क-3 चार हजार किलो तक के उपग्रह ले जा सकता है।

इसरो अध्यक्ष एस.एस किरण कुमार ने बताया, “ये मिशन बेहद महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि ये अब-तक का सबसे भारी रॉकेट और उपग्रह है, जिसे देश से छोड़ा जाना है। अब-तक 2300 किलोग्राम से ज्यादा वजन के संचार उपग्रहों के लिए इसरो को विदेशी लॉन्चरों पर निर्भर रहना पड़ता था। GSLV मार्क-3 4000 किलो तक के पेलोड को उठाकर जीटीओ और 10,000 किलो तक के पेलोड को पृथ्वी की निचली कक्षा में पहुंचाने में सक्षम है।”

घटना बरेली के बिथरीचैनपुर इलाके  की है। रविवार देर रात करीब दो बजे एनएच-24 पर गोंडा डिपो की बस दिल्ली से आ रही थी। बताया जाता है कि  बस गलत साइड में थी और  वह लखनऊ की ओर से आ रहे ट्रक से टकरा गई। टक्कर होते ही बस का डीजल टैंक फट गया, जिससे उसमें आग लग गई। भिड़ंत के बाद ट्रक में भी आग लग गई। इसके बाद पूरी बस में चीख पुकार मच गई लेकिन आग इतनी खतरनाक थी कि यात्री बस से बाहर नहीं निकल पाए। बाद में आग पर किसी तरह काबू पाया जा सका। लोगो की बाडी बुरी तरह जल गई थी जिन्हें पहचानना मुश्किल हो रहा था। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने हादसे पर संवेदना व्यक्त की है तथा पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने की घोषणा की है। मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार रुपये और सामान्य रूप से घायलों को 25 हजार रुपये देने का फैसला लिया गया है। 

उत्तरी कश्मीर के सुंबल बांदीपोरा में स्थित CRPF के कैंप पर आज तड़के आतंकी हमला हुआ। हमला करीब सुबह 4 बजे हुआ। यह कैंप उत्तरी-कश्मीर में CRPF के 45वें बटालियन का मुख्यालय है। सूत्रों के मुताबिक CRPF और पुलिस द्वारा की गई जवाबी कार्रवाई में चार आतंकी ढेर हो गए। आतंकियों को ढेर करने के बाद सीआरपीएफ जवानों ने ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाए।
बांदीपुरा इलाके में जवानों का तलाशी अभियान जारी है। बता दें इससे पहले अनंतनाग जिले में शनिवार को आतंकियों ने आर्मी के काफिले पर हमला किया था। काफिले पर फायरिंग जिले के काजीगुंड इलाके में हुई थी। इसमें 2 जवान शहीद हुए थे और 5 जख्मी हो गए थे।

एक RTI के जवाब में केंद्र सरकार ने यह जवाब दिया है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत विमान हादसे से हुई है। हालांकि, सरकार के इस जवाब से नेताजी के परिवार वाले खुश नहीं है। नेता जी के पोते चंद्रकुमार बोस ने कहा है कि सरकार का यह व्यवहार काफी गैर जिम्मेदाराना है, केंद्र सरकार इस तरह का जवाब कैसे दे सकती है, जबकि मामला अभी तक सुलझा नहीं है।
दरअसल, सूचना के अधिकार(RTI) के तहत मांगी गई जानकारी में गृह मंत्रालय ने जवाब दिया है कि, “नेता जी की मौत से जुड़ी 37 फाइलें जारी की थी, सहनवाज कमेटी, जस्टिस जीडी खोसला कमीशन और जस्टिस मुखर्जी कमीशन की रिपोर्ट देखने के बाद सरकार इस नतीजे पर पहुंची है कि नेताजी 1945 में विमान दुर्घटना में मारे गए थे।”


सायक सेन नाम के एक शख्स ने RTI दायर कर यह सवाल किया था, जिसके जवाब में गृह मंत्रालय ने यह जानकारी दी।
चंद्र कुमार बोस का कहना है कि गृह मंत्रालय को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए और इस मामले की जांच के लिए SIT का गठन किया जाना चाहिए। सभी फाइलों की जांच व अध्ययन हो।
गौरतलब है कि भारत की स्वतंत्रता के लिए आजाद हिंद फौज का नेतृत्व करने वाले सुभाष चंद्र बोस की मौत एक रहस्य बनी हुई है। पिछले कुछ समय पहले से बोस के परिवारवालों की तरफ से इस मुद्दे को उठाया गया है। उनके परिजनों ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

राजस्थान हाई कोर्ट ने गायों की सुरक्षा के लिए ज्यादा सख्त प्रावधान लाने का समर्थन किया है. जयपुर की हिंगोनिया गोशाला से जुड़े मामले की सुनवाई करते हुए बुधवार को अदालत ने केंद्र सरकार को गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव दिया. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने यह भी कहा कि गोहत्या पर सजा को बढ़ाकर उम्र कैद कर देना चाहिए. फिलहाल राज्य में गोहत्या पर तीन साल की सजा का प्रावधान है.

रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान हाई कोर्ट ने एंटीकरप्शन ब्यूरो के अतिरिक्त महानिदेशक को प्रत्येक तीन महीने में गौशालाओं पर रिपोर्ट तैयार करने और शहरी विकास सचिव और नगरपालिका आयुक्त को हर महीने गौशालाओं का निरीक्षण करने का निर्देश दिया है. इसके अलावा अदालत ने वन विभाग से हर साल गौशालाओं में 5,000 पेड़ लगाने को भी कहा है. हिंगोनिया गौशाला पिछले साल सैकड़ों गायों के मरने की खबर के साथ चर्चा में आई थी. शुरुआत में प्रशासन ने गायों की मौत के लिए उनका बूढ़ा और बीमार होना वजह बताया था. लेकिन, बाद में आई जांच रिपोर्ट में उनकी मौत की वजह देखभाल की कमी को पाया गया था.

राजस्थान हाई कोर्ट का यह सुझाव ऐसे समय में आया है, जब केंद्र सरकार द्वारा पशु बाजारों में मांस के लिए मवेशियों की खरीद-बिक्री पर रोक लगाने का केंद्र का फैसला विवादों में है. केरल, कर्नाटक, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल जैसी कई राज्य सरकारें इसका विरोध कर रही हैं. इस बीच, मंगलवार को मद्रास हाई कोर्ट की मदुरई बेंच ने इस फैसले से संबंधित प्रावधानों पर चार हफ्ते के लिए रोक लगा दी है.

नई दिल्ली. बाबा रामदेव की अगुवाई वाली पतंजलि आयुर्वेद जीएसटी की उंची दर से नाखुश है. उन्होंने सरकार से पूछा है कि बेहतर स्वास्थ्य के अधिकार के बिना लोग अच्छे दिन को कैसे महसूस और जी सकते हैं. कंपनी का कहना है कि आयुर्वेद उत्पाद के जरिये आम लोगों को सस्ती दर स्वास्थ्य सुविधाएं दी जा सकती हैं. उद्योग संगठन एसोसिएशन आफ मैनुफैक्चरर्स आफ आयुर्वेदिक मेडिसिन्स (एएमएएम) ने भी कहा कि एक तरफ जहां सरकार आक्रमक तरीके से वैश्विक स्तर पर आयुर्वेद को बढ़ावा दे रही है वहीं जीएसटी के तहत अधिक कर से कुदरती दवाएं महंगी होंगी तथा आम लोगों की पहुंच से बाहर हो जाएंगी.

संगठन ने कहा कि प्रस्तावित 12 प्रतिशत के बजाए परंपरागत आयुर्वेदिक या जेनेरिक दवाएं शून्य और पेटेंटशुदा उत्पादों के लिये 5 प्रतिशत होना चाहिए. फिलहाल आयुर्वेदिक दवाएं और उत्पादों वैट समेत कुल कर प्रभाव 7 प्रतिशत है जो औषधि पर निर्भर है. जीएसटी व्यवस्था के तहत इन औषधियों पर 12 प्रतिशत कर रखा गया है. पतंजलि आयुर्वेद लि. तथा पतंजलि योगपीठ के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने कहा, आयुर्वेदिक श्रेणी पर उच्च जीएसटी दर से हमें अचंभा हुआ और यह हमारे लिये निराशाजनक तथा दु:खद है. उन्होंने आगे कहा कि आयुर्वेद आम लोगों को सस्ती दर पर इलाज सुविधा उपलब्ध कराता है. यह सदियों से इलाज का परखा का हुआ जरिया है.

पतंजलि आयुर्वेद के तिजारावाला ने कहा, की अच्छा स्वास्थ्य और स्वस्थ्य जीवन आम लोगों का मूल अधिकार है. इसके बिना कोई कैसे अच्छे दिन को महसूस कर सकता है.एएमएएम के महासचिव प्रदीप मुलतानी ने इसी प्रकार की राय जाहिर करते हुए कहा, भारत सरकार आक्रमक तरीके से आयुर्वेदिक उत्पादों को वैश्विक स्तर पर बढ़ावा दे रही है लेकिन उंची कर लगाने के बाद इसका क्या मतलब है और देश में लोग इसका वहन नहीं कर सकते.

पंजाब के पठानकोट के मामून मिलिट्री स्टेशन के पास से एक संदिग्ध बैग मिलने के बाद से सुरक्षा एजेंसियों हाई अर्लट पर है। बैग मिलने के तुरंत बाद से स्वाट कमांडोज और सेना के जवान तलाशी अभियान में जुट गए है।
आपको बता दें, कि पठानकोट में इंडियन एयरफोर्स का बेस स्टेशन भी है। जहां पर पिछले साल आतंकियों ने हमला भी किया था।
यह संदिग्ध बैग ममून आर्मी कैंटोमेट इलाके में बीती एक स्थानीय नागरिक को मिला। जिसके बाद पुलिस को इस बैग के बारे में जानकारी दी गई। जिसके बाद से पठानकोट शहर और कैंट इलाके में तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया।

बता दें कि 2015 में भारी हथियारों से लैस सेना की वेशभूषा में तीन आतंकियों ने एक कार हाइजैक करके गुरदासपुर जिले के दीनानगर थाने पर हमला बोल दिया था। उनके हमले में एक एसपी समेत सात लोग मारे गए थे। वहीं, सीमा पर से आए चार आतंकियों ने पठानकोट एयरबेस को पिछले साल 1 और 2 जनवरी की दरमियानी रात निशाना बनाया था। इस हमले में 7 सुरक्षाकर्मियों को अपनी शहादत देनी पड़ी थी।

Page 3 of 15

Contact Us

For General Enquiry
  •  : info@a1tv.tv
  •  : 0141 - 4515121, 4515151
For Advertising
  • : advt@a1tv.tv,      a1tv.advt@gmail.com
  •  : +91- 98280-11251, 98280-10551
  •  : +91- 98280-10551